शनिवार, 6 अगस्त 2011

तेली क नाटा आ झाँसा-पट्टी (लघुकथा)- बिगुल-1

केवनो गाँव में एगो तेली रहे। ऊ अपनी नाटा के अन्हवट के कोल्हू में नधल रहे…







कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

ईहाँ रउआ आपन बात कह सकीले।