सोमवार, 21 नवंबर 2011

यात्रा-वृत्त (लघुकथा)



( लघुकथा डॉ रामनिवास मानव के लघुकथा-संग्रह घर लौटते कदमके श्री सूर्यदेव पाठक परागके कइल भोजपुरी अनुवाद एकमुश्त समाधानसे लिहल गइल बा।)


जब ऊ मजदूर रहले, त पैदल फैक्ट्री जात रहले। दोसर कई लोग साइकिल पर जात रहे। ओह लोग के देखके ऊ सोचसकाश, उनको लगे साइकिल रहित !
जब ऊ क्लर्क भइले, त उहो साइकिल ले लिहले। अब लगे से जात मोटर साइकिल देखस, निराश हो जास। सोचसउनको लगे मोटर साइकिल होखे के चाहीं।
जब ऊ सेल्स-अफसर बनले, त ऊ मोटर साइकिल खरीद लिहले। अब उनका कारवालन से ईष्या होखे लागल। ऊ सोचसमोटर साइकिल से का, उनको लगे कार होइत, त बात बनित।
जब ऊ मैनेजर भइले, त उनका कार मिल गइल। अबकोठी का दरवाजा पर कार में बइठस आ फैक्ट्री का गेट पर उतरसअब ऊ सचहूं बहुत खुश रहले, उनकर मनोकामना जे पूरा हो गइले रहे।
बाकिर धीरेधीरे उनकर स्वास्थ्य खराब होखे लागल। डॉक्टर सलाह दिहले कि उनका रोज नियम से दू-चार किलोमीटर पैदल चले के चाहीं। एह से अब उनकर कार गैरिज में खड़ा रहेला आ ऊ पैदल फैक्ट्री आवतजात रहेले।

6 टिप्‍पणियां:

  1. मन बड़ा खुश भईल । हमरो पोस्ट पर आवे के कोशिश करीं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका पोस्ट मन को प्रभावित करने में सार्थक रहा । बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेर नए पोस्ट 'राही मासूम रजा' पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. एही से भगवान बुद्ध कह गइलन कि इहे इच्छा सभे दुख के कारण बा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपका पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका पोस्ट बहुत ही अच्छा लगा .। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाए ।

    उत्तर देंहटाएं

ईहाँ रउआ आपन बात कह सकीले।